कला में भारतीय दर्शन – डाॅ. एस. आर. रामास्वामी

कला में भारतीय दर्शन मुझे प्रसन्नता है कि बौद्धिक जीवंतता और मन की परस्पर क्रिया को फिर से जीवंत करने के लिए एक नई पहल संस्कृति नैमिष्य की शुरूआत की गई है जो गोमती नदी के तट पर स्थित नैमिष वन से सम्बंधित है। देश के Continue Reading

दिव्य नैमिषारण्य तीर्थ – नारायण दत्त शर्मा

दिव्य नैमिषारण्य तीर्थ संस्कृत वाड्.मय में नैमिषारण्य का उल्लेख एक ऐसे तीर्थ स्थान के रूप में किया गया है, जो पुण्य तीर्थ मोक्षदायक है। नैमिषारण्य दो शब्दों से मिलकर बना है, नैमिष तथा अरण्य। सर्वप्रथम अरण्य शब्द पर Continue Reading